क्यों ख्याब ख्याब है?

क्यों ख्याब ख्याब है?

क्यों ये हकीकत नहीं बन जाती?

क्यों नहीं इच्छाएं पूरी हो जाती हैं सारी??

और क्यों डर दूर नहीं हो जाता ?

क्यों गहराता जाता है अंधेरा ?

और क्यों हिम्मत है बिखरा जाता ?

3 thoughts on “क्यों ख्याब ख्याब है?

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s