ख़्वाहिशें।

मोह ये भंग होता नहीं,

नई ख़्वाहिशें हर दिन निकल आतीं हैं कई।

बन मोम इन ख़्वाहिशों को ले

वो फिर पिघल गयी कहीं,

पर ख़्वाहिशें ख़त्म हुई नहीं पूरी ,

रह गयी इस बार भी थोड़ी।
©Dr.Kavita

3 thoughts on “ख़्वाहिशें।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s