बहकता  फतंगा

जलते आग के लपटों की तरफ़

वो बढ़ता फतंगा।

रोक रहे जिसे सब,

तेज रोशनी में चकाचौंध , अपनी हीं बातों

पर वो अड़ता फंतगा।

कल से अनजान,

आज में खोया , मदमस्त होया,

वो बहकता फतंगा।

जलते आग के लपटों की तरफ़

वो बढ़ता फतंगा।

8 thoughts on “बहकता  फतंगा

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s