कहीं तो महफ़ूज रखो।

लिखती इसलिए नहीं की तुम मेरे एहसासों को महसूस करो।

पर इसलिए कि गर मर जाऊं अनायास ,

तभी तुम मुझे महसूस करो।

यादों में ही सही ..याद रखो..

दिल में ना तो ना सही,

कहीं तो महफ़ूज रखो।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s